रविवार, 26 सितंबर 2010

हर शहर में एक स्‍त्री का स्‍थापत्‍य

कुछ शहरों को याद करते हुये


अब रातें अपना काम करेंगी
झरनों की तरह मेरे ऊपर गिरेंगी
और मुझे भटकायेंगी जैसे बतायेंगी
कि यह शहर तुम्हारे लिये नया है
कभी-कभी नीम या पीपल दिखेगा दिलासा देता
फिर गलियाँ धीरे-धीरे अपनायेंगी और मेरी नसों में समा जाऍंगी

कहीं कोई पोखर, घाटियाँ, बिखरे हुये से पेड़
पुल, कोलाहल से भरे चौरस्ते और उदासी
झाड़ियाँ, मैदान, एक तरफ खिले हुये फूल
गिरती ओस और टूटती पत्तियाँ
हर शहर में एक स्त्री का स्थापत्य छिपा है

इस साँवली सड़क ने मुझे बाँहों में भर लिया है
तारों की परछाइयाँ मुझ पर सुलगती गिर रही हैं
मेरे माथे पर उनके चुंबनों की बौछार है
जिनकी चमक झील में गिरकर उछलती है

छूटता ही नहीं शहरों से मेरा प्रेम
उनके भीतर से उठती है मारक पुकार
वही है जो बार-बार मुझे उनकी तरफ लिवाये जाती है
और उन्हें किसी मादक प्रेम की तरह
अविस्मरणीय बनाती है।
00000

26 टिप्‍पणियां:

pallav ने कहा…

bEHAD AATMIYA AUR SUNDER KAVITA.

प्रभात रंजन ने कहा…

मैं उजली धुंधली यादों के कोहरे में खो गया... यह आपकी कविताओं का प्रभाव है.

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (27/9/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा।
http://charchamanch.blogspot.com

शरद कोकास ने कहा…

कुमार भाई यह अच्छा लगा , अब लगता है कि नियमित रूप से यहाँ आपकी नई कवितायें व लेख पढ़ने को मिलेंगे ।
कविता के बारे में क्या कहूँ , खो गया मैं भी ...।

माणिक ने कहा…

I like it

ravikumarswarnkar ने कहा…

प्रभाव छोड़ती है...मथती है...
बेहतर कविता...

अनिल कान्त : ने कहा…

अच्छी कविता पढने का सुख ही अलग है

deepak prakash ने कहा…

aapki rachana se main prabhavit hoon

सुनील गज्जाणी ने कहा…

kumar saab
namaskar !
achchi abhivyakti hai , gahrai ke saath ,
sadhuwad
saadar !

उत्‍तमराव क्षीरसागर ने कहा…

"तारों की परछाइयॉं मुझ पर सुलगती गिर रही हैं"
....अदभुत !

प्रभावी अभिव्‍यक्ति ।

सुशीला पुरी ने कहा…

'एक स्त्री का स्थापत्य'........ अद्भुत !!!!!

kshitij --govindmathur ने कहा…

Aapki kavitaon me sree ka sthapatya pabhavit karta hai.

अजेय ने कहा…

गज़ब ! gi'mme more......

filhal ने कहा…

वाह …गहरी कविता और बहुत अच्छी कविता और कितनी चित्रात्मक.. बधाई स्वीकरें. महेश वर्मा, अंबिकापुर छत्तीसगढ़

कविता रावत ने कहा…

अम्बुज जी आपको बहुत सुना था आज आपका ब्लॉग देखा तो बहुत अच्छा लगा ...आपकी नवीन कवितायेँ पढने को मिलेंगी .... बहुत प्रभावपूर्ण रचना .... हार्दिक शुभकामनाएँ

कुमार अम्‍बुज ने कहा…

समेकित रूप से मैं अपने सभी उन मित्रों को धन्‍यवाद ज्ञापित करना चाहता हूँ जो मेरे ब्‍लॉग पर आते हैं और जो अपनी टिप्‍पणी भी दर्ज कर देते हैं, उनके प्रति विशेष आभार।

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

very nice bhai ambujji

tarav amit ने कहा…

बहुत चित्र बनाती है कविता ..बहुत से बिम्ब
`स्त्री का स्थापत्य' ....बहुत खूब

केवल राम ने कहा…

कुमार जी , पहले तो सिर्फ आपके कविता संग्रह पढ़े थे , आपके चारों कविता संग्रह , अब आप ब्लॉग पर भी उपलब्ध हैं तो संवाद भी कायम रहेगा ...शुभकामनायें

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

नवीन विम्ब. शहर में स्त्री को देखना... सुन्दर कविता.

अवनीश सिंह चौहान ने कहा…

मान्यवर
नमस्कार
अच्छी रचना
मेरे बधाई स्वीकारें

साभार
अवनीश सिंह चौहान
पूर्वाभास http://poorvabhas.blogspot.com/

neelam chand sankhla ने कहा…

Har shahar ki fiza zahan me kuch yad chhod jati hai. shahar ko yad karane ka andaz bahut pasand aaya.

http://nature7speaks.blogspot.com

उपेन्द्र ' उपेन ' ने कहा…

अम्बुज जी बहुत ही गहरे जज्बात है इस कविता में ........मन को छू गयी .
फर्स्ट टेक ऑफ ओवर सुनामी : एक सच्चे हीरो की कहानी

रमिया काकी

अभिषेक मिश्र ने कहा…

आपकी लिखी पंक्तियाँ काफी प्रभावित करती हैं.

leena malhotra ने कहा…

सुन्दर उपमाएं है, शब्दों ने चित्र का काम किया है. आपके ब्लॉग पर आपकी रचनाये पढने को मिलेंगी , ख़ुशी हुई. धन्यवाद - लीना मल्होत्रा
http://lee-mainekaha.blogspot.com

ekaant ने कहा…

Jee han ambujjee.main multaya bihar ka hun.sarkari sewa ki wajah se m.p. Main 14 oct 1991 se hun.uske pahle garhwal me cllege me English padha raha tha.Ab tak rewa,satna,jabalpur,sehore aur bhopal me rahne ka moka mila hai.Har shahar shuru me ek ajnabi,anjan thikana lagta raha.Dhire dhire us shahar ki anek cheejon se ankaha lagaw hua.Aapne jo anubhavon ka sandra prastutikaran kiya hai kuchh kuchh T.S.Eliot ke Objective Co-relative ki tarah.Badhai.