बुधवार, 5 सितंबर 2012

जीवन विवेक ही साहित्‍य विवेक है




करीब दो बरस पहले  यह टिप्‍पणी लिखी गई थी। 
एक स्‍थानीय आयोजन से प्रेरित। बहरहाल।
एक-दो वाक्‍यों में संपादन के साथ यह यहॉं है।


साहित्यिक आयोजनों का अजैण्डा

साहित्य संबंधी आयोजनों को मोटे-मोटे दो वर्गीकरणों में देखा जा सकता है।
1.स्पष्ट कार्यसूची (अजैण्डे) के साथ आयोजन। 2.बिना कार्यसूची के साथ आयोजन।

पहले वर्ग में, किसी विचारधारा विशेष, जैसे वामविचार को केंद्र में रखकर, उसके अंतर्गत कुछ अभीष्ट या उद्देश्य बनाकर आयोजन किए जाते हैं। उनके इरादे, घोषणाएँ, प्रवृत्ति और पक्षधरता को साफ पहचाना जा सकता है। वहाँ साहित्य संबंधी एक दृष्टि, विचार सरणी होती है और कुछ साहित्यिक मापदण्ड और समझ के औजार भी उस दृष्टि और सरणी से निसृत होकर सामने रहते हैं। तत्संबंधी नयी चुनौतियाँ भी। विचारधाराओं से प्रेरित तमाम लेखक संगठनों के आयोजन इसी वर्ग में रखे जाएँगे। और वे भी आयोजन भी, जो वाम-विचारधारा विरोधी साहित्यिकों या संस्थाओं द्वारा संभव होते हैं।

लेकिन इन सभी का अजैण्डा असंदिग्ध रूप से जाहिर होता है। सार्वजनिक। उनके उद्देश्य स्पष्ट होते हैं। प्रगतिशील लेखक संघ, जनवादी लेखक संघ, जन संस्कृति मंच, पूर्व में ‘परिमल’ के आयोजन और इधर अस्तित्व में आईं अनेक सांस्कृतिक दक्षिणपंथी संस्थाओं के कार्यक्रम, जिनकी वामविरोधी राजनीति स्पष्ट है। प्रायः इस तरह की संस्थाओं या संगठनों में औपचारिक/अनौपचारिक सदस्यता होती है और वे अपनी प्रतिबद्धताओं के लिए जवाबदेह होते हैं। इस वर्ग के ये कुछ उदाहरण हैं।

दूसरे वर्ग में मुख्यतः निजी महत्वाकांक्षाएँ, व्यक्तिगत यशकामना और/या व्यावसायिक समझ के साथ किए जानेवाले आयोजन हैं। वे किसी सामूहिक जनचेतना, व्यापक विचार या विचारधारा से प्रेरित नहीं होते। इसलिए कभी-कभार उनमें विभिन्न विचारधाराओं के लेखक भी, निजी कारणों से, एक साथ सक्रिय दीख सकते हैं। इनके एक, दो, दस आयोजनों को विश्लेषित कर लें तब भी कुछ हाथ नहीं आएगा। सिवाय इसके कि व्यक्तिगत वर्चस्व, नेतृत्व कामना के लिए, प्रकाशकीय लोभ-लाभ के लिए, पत्रिका की लांचिंग या प्रचार हेतु अथवा निजी धाक जमाने के लिए, पब्लिक रिलेशनशिप के लिए इनका आयोजन हुआ।

जब तक कोई ‘धन या अधिकार संपन्न व्यक्ति’, व्यवसायी या संक्षिप्त समूह इसके पीछे काम करता है, तब तक ये आयोजन होते हैं और फिर सिरे से गायब हो जाते हैं। फिर उनकी उतनी गूँज भी बाकी नहीं रहती जितनी एक छोटे से अंधे कुएँ में आवाज लगाने से होती है। उसका ऐतिहासिक महत्व तो दूर, उसकी किंचित उपलब्धि भी अल्प समय के बाद ही, कोई नहीं बता सकता। संक्षेप में कहें तो इनकी नियति एक ‘क्लब’ में बदल जाती है जहाँ साहित्य को लेकर, रचनाधर्मिता के संदर्भ में कोई ऐसी बात संभव नहीं जिसे गहन सर्जनात्मकता एवं बड़े विमर्श तक ले जाया जा सके। आयोजन के बाद उसे विचार की किसी परंपरा से जोड़ा जा सके। किसी आंदोलन के हिस्से की तरह उसे देखा जा सके या उस संदर्भ में नयी पीढ़ी को शिक्षित अथवा उत्प्रेरित किया जा सके।

ऐसे आयोजन, एक तरह के अवकाश को भरने या बोरियत दूर करने, साथ मिलजुलकर बैठने की इच्छा या समकालीनता में इस तरह ही सही, अपना नाम दर्ज कराने की सहज-सरल आकांक्षा, ध्यानाकर्षण की योजना अथवा समानांतर सत्ता संरचना की कामना से भी प्रेरित होते हैं और कई बार इस प्रतिवाद से भी कि उन्हें अपेक्षित रूप से स्वीकार नहीं मिला है। या उन्हें कमतर समझा गया है। या यह कि उन्हें और, और, और, और, और जगह चाहिए। लेकिन इनका जो भी आयोजक होगा, उसकी महत्वाकांक्षाओं या इरादों को समझा जा सकता है। हालॉंकि सतह पर तैरती चतुराई के कारण उनके वास्तविक उद्देश्य स्पष्ट होने में किंचित समय भी लग सकता है।

लेकिन एक बात यहाँ सबसे महत्वपूर्ण होती हैः वह यह कि इनका कोई घोषित अजैण्डा नहीं होता। या इनकी कोई कार्यसूची होती भी है तो उससे साहित्य या जीवन, (याद करें मुक्तिबोध का महान वाक्यः ‘जीवन विवेक ही साहित्य विवेक है।’) के प्रति, किसी भी विचारधारा और दृष्किोण से संबंध नहीं बैठाया जा सकता। इसलिए ऐसे आयोजन एक मिलन समारोह, पर्यटन, सामूहिक दस्तरखान के सुख, आनंददायी तस्वीरों और अन्य मधुर स्मृतियों में ही न्यून हो जाते हैं। इन्हें अन्य द्वारा वित्तपोषित ‘साहित्यिक किटी पार्टियों’ की तरह भी देखा जा सकता है।

एक अन्य उपवर्ग उन संस्थानों का बनता है जिनके पास शासकीय या गैरशासकीय स्त्रोतों से बजट है और वे उस बजट को खपाने के लिए, अपने संस्थान की क्रियाशीलता को बनाए रखने के लिए तमाम आयोजन करने को विवश हैं। प्रायः, जब तक कि संप्रति सरकारों का दबाब न हो, उनका किसी विचारधारा विशेष के प्रति विरोध या समर्थन नहीं होता। वहाँ कोई भा आ-जा सकता है और उनसे लाभ लिया जा सकता है। उसमें भागीदारी से किसी को कोई उज्र या ऐतराज नहीं होता, जब तक कि कुछ विचारधारात्मक सवालों से मुठभेड़ न हो। आकाशवाणी, दूरदर्शन, साहित्य अकादमियाँ, हिंदी उन्नयन संस्थाएँ आदि इसके उदाहरण हैं। इन संस्थाओं के पास भी, साहित्य को लेकर कोई विशिष्ट औचित्य या दृष्टि नहीं होती, सिवाय इस महान वाक्य के कि ‘वे साहित्य और रचनाकारों की सेवा कर रहे हैं और उनका जन्म बस यही करने के लिए हुआ है।’

बहरहाल, यदि पहले वर्ग के आयोजनों में किसी के द्वारा शिरकत की जा रही है तो वह खास तरह के वैचारिक अजैण्डा की जानकारी के साथ, उसके प्रति सहमति, प्रतिबद्धता या उत्सुकता से की जाएगी। और दूसरे वर्ग के आयोजन में शिरकत की जा रही है तो वह मूलतः मौज मस्ती, मेल-मिलाप, उत्सवधर्मिता और संबंधवाद के लिए। लेकिन प्रकारांतर से इस तरह लोग जाने-अनजाने किसी की महत्वाकांक्षा या छिपे हुए निजी अजैण्डा के सहभागी हो जाते हैं। और कई बार तो कृतज्ञ भी। जाहिर है कि शिरकत करते हुए तमाम लोग निजी रूप से निर्णय लेते हैं, अपना चुनाव करते हैं लेकिन फिर लाजिमी है कि वे जलसा उपरांत कुछ विचार भी करें। मसलन यह, कि आखिर क्या वे इन चीजों का वाकई हिस्सा होते रहना चाहते हैं!

ऐसा भी हो सकता है कि किसी आयोजन में विभिन्न विचारधाराओं से प्रेरित या विचारधाराहीन (??) लेखकों का जमावड़ा कराया जाए, उनके बीच मुठभेड़ कराई जाए और फिर उसे आयोजनकर्ता दिलचस्पी से देखें, अपनी स्पॉन्सरशिप का भरपूर आनंद उठाएँ। इसका कुछ विचारणीय पक्ष शायद तब भी हो सकता है कि जब वे कुछ गंभीर सवालों को खड़ा करें, उन्हें सूचीबद्ध करें, बताएँ कि ये महत्वपूर्ण निष्पत्तियाँ हैं, इन पर व्यापक विमर्श हो। इसलिए अपेक्षित होगा कि ये आयोजनकर्ता, औपचारिक तौर पर बताएँ कि इससे उनके किन उद्देश्यों की पूर्ति होती है और आगे भी इस तरह की ‘कांग्रेस’ करते रहने के पीछे उनकी क्या राजनीति, योजना, मंशा और आकांक्षा है। और इसे व्यापक करने की क्या रणनीति है।

निजी तौर पर यों मौज-मस्‍ती और हो-हल्‍ले का विरोधी नहीं हूँ लेकिन यह शायद आग्रह या दुराग्रह हो कि मैं हर उस आयोजन के समर्थन में आसानी से हूँ जिसका अजैण्डा जाहिर हो। भले ही, उनका वह आयोजकीय प्रयास असफल सिद्ध हो। कि मैं तत्संबंधी उद्देश्यों और आकांक्षाओं को पहले समझ तो लूँ। यानी फिर वही अमर सवालः ‘पार्टनर, तुम्हारी पॉलिटिक्स क्या है?’

पिछले कुछ वर्षों से यदि अजैण्डा आधारित आयोजन, विचारधारा संपन्न कार्यक्रम प्रचुरता से नहीं हो पा रहे हैं तो तमाम वामपंथी कहे और समझे जानेवाले लेखकों के लिए इसका अर्थ या विकल्प कदापि यह नहीं हो सकता कि अजैण्डाविहीन, मौजमस्ती मूलक आयोजनों में अपने को गर्क किया जाए।

और यह भी याद कर लेना यहाँ अप्रासंगिक न होगा कि दीर्घकालीन दृष्टि और किसी अजैण्डे के साथ काम करने से ही संगठन और संस्थाएँ बनती हैं। विमर्श आग्रगामी होता है। अजैण्डाविहीन ढ़ंग से काम करने से ‘गुट’ बनते हैं। भावुक, आभारी बनानेवाली, सी-सा मित्रताएँ बनती हैं। और इन्हीं सबके बीच आत्मतोषी रचनापाठ, कुछ आत्मीय विवाद, वैचारिक-उत्तेजनाविहीन कलह और आमोद-प्रमोद होता है। और यह किसी साहित्यिक आयोजन का अजैण्डा हो नहीं सकता।

इसलिए ऐसे आयोजनों को जब किसी उतावलेपन में, उत्साह में या अनुग्रहीत अनुभव करते हुए साहित्यिक उपलब्धि की तरह प्रचारित किया जाता है अथवा उस तरह से पेश करने की कोशिश की जाती है, इन आयोजनों के लिए फिर-फिर आकांक्षा प्रकट की जाती है तो कुछ सवाल नए सिरे से उठते हैं।
00000

8 टिप्‍पणियां:

Ek ziddi dhun ने कहा…

इसे पढ़कर फिर राहत मिली। एक ऐसा लेख जो गंभीरता से मुद्दों पर बात करता है। इन सवालों पर गंभीरता से सभी को सोचना चाहिए। मैंने इसे फेसबुक पर शेयर किया है।

मोहन श्रोत्रिय ने कहा…

बेहद संतुलित, दृष्टिसंपन्न टीप है यह. नए लोगों को इस पर ध्यान देना चाहिए. इसलिए भी कि ये ही नए लोग कुमार अंबुज का नाम बारहा लेते रहते हैं, और उन्हें अपने साथ खड़ा भी कर लेते हैं. साफ़गोई और बेबाक़ी के लिए कुमार अंबुज को बधाई.

शरद कोकास ने कहा…

इन सभी तरह के आयोजनों में भागीदारी दर्ज करने वाले साहित्यकारों और गैर साहित्यकारों को आयोजन के उद्देश्य के बारे में स्पष्ट पता होता है और जिन्हे नहीं पता होता वे भी अनजाने में इनमें शरीक नहीं होते । यह भी हो सकता है कि आपके द्वारा प्रस्तुत किये गये कारणों के अलावा भी किसी का अपना कोई निजी उद्देश्य हो । फिर भी यह निजता कहीं न कहीं व्यक्तिवाद को जन्म देती है । यद्यपि इस तरह के आयोजन बिलकुल ही निरर्थक नहीं होते कहीं न कहीं जरूरी सवाल खड़े किये जाते हैं और उनका उत्तर तलाशने का प्रयास भी किया जाता है । फिर भी यह मांग स्वाभाविक है कि अजेंडा आधारित आयोजन अधिक से अधिक किये जायें ।आपका यह कथन बिलकुल सही है कि विचारधारा आधारित कार्यक्रम प्रचुरता से नहीं हो पा रहे हैं लेकिन ऐसा क्यों हो रहा है इसका उत्तर तलाशना भी अब ज़रूरी हो गया है ।

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

यह लेख आपने मेल किया था, तब भी मैंने कहा था कि इस पर आपसे लम्बी बात करने की इच्छा है. दिक्कत यह है कि यहाँ वह मेरे पक्ष में, वह तुम्हारे पक्ष में वाली मानसिकता के बीच इस पर कोई स्वस्थ बात होने न दी जायेगी. इसीलिए मैं अलग से बात करना चाहूंगा.

अभी दो बातें, पहली यह कि इससे कौन असहमत होगा कि अजेंडा वाले कार्यक्रम अधिकाधिक होने चाहिए? लेकिन अगर ऐसा नहीं हो पा रहा है तो इसके लिए सबसे बड़ी जिम्मेदारी किसकी है? मेरे विचार में लेखक संगठनों की जहाँ एक तो कार्यक्रम हो नहीं रहे, दुसरे जो हो रहे हैं उनमें अजेंडा वाले कार्यक्रमों की संख्या बहुत कम है. दूसरे, जो निजी आयोजक हैं उनसे वह उम्मीद ही क्यूं की जाय कि उनका अजेंडा वही होगा जो वामपक्षीय लेखकों का है? वह मनोरंजन से लेकर मन की संतुष्टि तक कुछ भी हो सकता है. फिर द्वंद्वात्मक दृष्टि से देखा जाय तो ज़रूरी नहीं कि सिर्फ वह उद्देश्य पूरा हो जिसके लिए वह कार्यक्रम आयोजित हुआ है. जैसे कान्हा के आयोजन की ही बात करूँ तो वहां चली बहस उस स्तर पर गयी जहाँ अरुण कमल जी ने आलोचना का पूरा एक अंक दशक सम्बन्धी बहसों, विचारधारा के सवाल और आज की कविता जैसे विषय पर केन्द्रित करने की बात कही. क्या एक सम्मिलन से यह बात निकल कर आना महत्वपूर्ण नहीं है? इसके पहले आप, मैं, राजेश जी, अशोक बाजपेयी, हरिओम भाई और अन्य कई मित्र कृत्या के एक आयोजन में नागपुर गए थे. ज़ाहिर है वह भी कोई सोद्देश्य आयोजन नहीं था. लेकिन वहां हमारे बीच जो बातें हुईं, क्या उनके मद्देनजर वह मेल-मुलाक़ात भी सोद्देश्य नहीं हो गयी?

मुझे लगता है कि ऐसे कार्यक्रमों को पूरी तरह से खारिज करने, उनका मजाक उड़ाने की जगह उनके सकारात्मक पहलुओं पर भी ध्यान दिया जाय. जैसे हिन्दी में बहुत सारी गैरवामपंथी पत्रिकाएं निकलती हैं/ निकलती रही हैं. क्या हम उनमें अपना हस्तक्षेप नहीं करते? क्या भाषा के प्रसार में उनकी भूमिका नहीं? फिर हिन्दी के अधिकतर प्रकाशक सोद्देश्य प्रकाशक नहीं (उनका उद्देश्य लाभ कमाना ही है), फिर भी क्या हम अपनी किताबें वहां से प्रकाशित नहीं कराते, कि जनता के बीच अपनी बात पहुंचा सकें? और तो और यह गूगल और ब्लॉग भी किसी क्रांतिकारी मकसद से बने हथियार/माध्यम नहीं, पर क्या हम सब उनका उपयोग नहीं कर रहे?

मुझे लगता है कि इस तरह कि बहिष्कारवादी नीति की जगह हमें इन माध्यमों/कार्यक्रमों के अपने पक्ष में उपयोग की संभावनाओं पर अधिक ध्यान देना चाहिए.

kshama ने कहा…

साहित्यिक आयोजनों पर एक गंभीर लेख ...
सच्चाई बयान करती आपकी ही एक कविता --
बनियान के लिए रखे पैसों से
भेजा जिन पत्रिकाओं को चंदा
वे मुख्यमंत्री की खुशहाल तस्वीर के नीचे
छाप रही हैं सत्ता विरोध की हमारी कवितायेँ ( कुछ ऐसा ही हाल साहित्यिक आयोजनों का भी है )

सत्येन्द्र रघुवंशी ने कहा…

भाई साहब, आपके इस नोट और कुछ इधर-उधर छपी टिप्‍पणियों से प्रेरित कुछ बातें हैं, जिन्‍हें यहॉं लिख रहा हूँ।

अजैण्‍डा की बात हमेशा ही महत्‍वपूर्ण रहेगी अन्‍यथा अस्‍थायी तौर पर ही सही, एक ऐसा समूह बनता चला जाता है जहाँ पक्षधरता के प्रश्‍न गौण होने लगते हैं और उसके जोखिम से भी बचने की गलियॉं निकल आती हैं। किसी असुविधाजनक सवाल से सार्वजनिक रूप से नहीं टकराना पड़ता और किसी के प्रति कोई जवाबदेही नहीं बनती। सिर्फ तुर्की-बतुर्की आपसी मुँहजोरी और लटठमलटठा होती रहती है। फिर तर्क समाप्‍त होने लगते हैं और कुतर्कों का एक दौर शुरू होता है जो एक आपसदारी की तरह एक-दूसरे की रक्षा में और हर उस आदमी के खिलाफ आक्रमण में जुट जाता है जो उन्‍हें असुविधाजनक प्रतीत होता है। विचार गायब हो जाता है। जो भी उन्‍हें उनके खिलाफ लगता है, वह भले ही उचित और वैचारिक बात कह रहा हो, शत्रु की तरह दिखता है। कोई किसी अन्‍य बात पर हँस भी रहा हो तो उन्‍हें लगता है कि उन पर ही हँसा जा रहा है।

हम सब सहमत होंगे कि किसी भी आयोजन में भागीदारी के कुछ आधारभूत कारण और औचित्‍य तो बनाना ही होते हैं। तथाकथित डेमोक्रेटिक स्‍पेसेज के बरअक्‍स ही हम वैचारिक संगठन बनाते हैं क्‍योंकि हमें लोकतांत्रिकता के नाम पर ऐसी जगहें नहीं चाहिए कि हाट-बाजार जैसी चिल्‍लपों मच जाए। 'अराजकता भरी और सुविधाजनक लोकतांत्रिकता' और 'अनुशासन/प्रतिबद्धता प्रेरित लोकतांत्रिकता' में हमेशा ही फर्क है। हमारी आकांक्षा क्‍या है, यह हमें समझना चाहिए। और हमें यदि किसी अन्‍य तरह से चुनाव और भागीदारियॉं करना है तो फिर वामपंथ वगैरह का राग छोड़ देना चाहिए। आप जैसे हैं, वैसे दिखें और घोषित करें। एक कौर पपीते का और एक घूँट अल्‍कोहल। इस तरह से अल्कोहल की मस्ती आ सकती है पर अल्कोहल के खतरे कम नहीं होते अंतर्विरोधों को समझते हुए, व्‍यक्तिगत चीजों से या मान्‍यताओं से उठकर विचार करना होगा।
निजी आयोजनों में भी फासिज्‍म के उस तरह के चिन्‍ह हो सकते हैं जैसे सत्‍ता संरचनाओं में होते हैं। और यदि ऐसा दिख रहा है तो फिर निजी आयोजनों को हम 'डेमोक्रेटिक स्‍पेस' के नाम पर विकल्‍प की तरह स्‍वीकार नहीं कर सकते।

सत्येन्द्र रघुवंशी ने कहा…

भाई साहब, आपके इस नोट और कुछ इधर-उधर छपी टिप्‍पणियों से प्रेरित कुछ बातें हैं, जिन्‍हें यहॉं लिख रहा हूँ।

अजैण्‍डा की बात हमेशा ही महत्‍वपूर्ण रहेगी अन्‍यथा अस्‍थायी तौर पर ही सही, एक ऐसा समूह बनता चला जाता है जहाँ पक्षधरता के प्रश्‍न गौण होने लगते हैं और उसके जोखिम से भी बचने की गलियॉं निकल आती हैं। किसी असुविधाजनक सवाल से सार्वजनिक रूप से नहीं टकराना पड़ता और किसी के प्रति कोई जवाबदेही नहीं बनती। सिर्फ तुर्की-बतुर्की आपसी मुँहजोरी और लटठमलटठा होती रहती है। फिर तर्क समाप्‍त होने लगते हैं और कुतर्कों का एक दौर शुरू होता है जो एक आपसदारी की तरह एक-दूसरे की रक्षा में और हर उस आदमी के खिलाफ आक्रमण में जुट जाता है जो उन्‍हें असुविधाजनक प्रतीत होता है। विचार गायब हो जाता है। जो भी उन्‍हें उनके खिलाफ लगता है, वह भले ही उचित और वैचारिक बात कह रहा हो, शत्रु की तरह दिखता है। कोई किसी अन्‍य बात पर हँस भी रहा हो तो उन्‍हें लगता है कि उन पर ही हँसा जा रहा है।

हम सब सहमत होंगे कि किसी भी आयोजन में भागीदारी के कुछ आधारभूत कारण और औचित्‍य तो बनाना ही होते हैं। तथाकथित डेमोक्रेटिक स्‍पेसेज के बरअक्‍स ही हम वैचारिक संगठन बनाते हैं क्‍योंकि हमें लोकतांत्रिकता के नाम पर ऐसी जगहें नहीं चाहिए कि हाट-बाजार जैसी चिल्‍लपों मच जाए। 'अराजकता भरी और सुविधाजनक लोकतांत्रिकता' और 'अनुशासन/प्रतिबद्धता प्रेरित लोकतांत्रिकता' में हमेशा ही फर्क है। हमारी आकांक्षा क्‍या है, यह हमें समझना चाहिए। और हमें यदि किसी अन्‍य तरह से चुनाव और भागीदारियॉं करना है तो फिर वामपंथ वगैरह का राग छोड़ देना चाहिए। आप जैसे हैं, वैसे दिखें और घोषित करें। एक कौर पपीते का और एक घूँट अल्‍कोहल। इस तरह से अल्कोहल की मस्ती आ सकती है पर अल्कोहल के खतरे कम नहीं होते अंतर्विरोधों को समझते हुए, व्‍यक्तिगत चीजों से या मान्‍यताओं से उठकर विचार करना होगा।
निजी आयोजनों में भी फासिज्‍म के उस तरह के चिन्‍ह हो सकते हैं जैसे सत्‍ता संरचनाओं में होते हैं। और यदि ऐसा दिख रहा है तो फिर निजी आयोजनों को हम 'डेमोक्रेटिक स्‍पेस' के नाम पर विकल्‍प की तरह स्‍वीकार नहीं कर सकते।

बोधिसत्व ने कहा…

आपसे सहमत होने की स्थिति है। कविता पर विचार करने के लिए मेलों से अलग ही रह कर सोचना होगा। हाँ यह जरूर है मेलाकांक्षी लोगों को रोका नहीं जा सकता है।