गुरुवार, 30 अक्तूबर 2008

आज की रात लिख सकता हूं मैं

पॉब्‍लो नेरुदा की 20 प्रेम कविताओं में से इस कविता के संसार में अनेक भाषाओं में अनगिन अनुवाद हुए हैं। हिन्‍दी में ही इसके कम से कम दस से अधिक अनुवाद किए गए हैं। इससे जाहिर है कि यह कविता अछोर व्‍यंजना, प्रेम, उदासी और हार्दिकता से भरी है। यह कविता बता सकती है कि कविता का अनुवाद नहीं, उसका पुनर्लेखन ही संभव होता है। बहरहाल।

सबसे उदास पंक्तियॉं
पाब्लो नेरुदा

आज की रात लिख सकता हूँ मैं सबसे उदास पंक्तियाँ।

लिख सकता जैसे- यह तारों भरी रात है
और तारे नीले हैं सुदूर और कांपते हैं।

रात की हवा चक्कर खाती है आसमान में और गाती है।

आज की रात मैं लिख सकता सबसे उदास पंक्तियाँ
मैंने उससे प्यार किया और कभी-कभी उसने भी मुझे प्यार किया।

ऐसी आज की तरह की रातों में वह मेरी बाहों में रही
मैंने उसे अनंत आकाश के नीचे बार-बार चूमा।

उसने मुझे प्यार किया, कभी-कभी मैंने भी उसे प्यार किया
आखिर कोई उसकी सुंदर निश्चल आखों को प्यार कैसे न करता।

आज की रात मैं लिख सकता सबसे उदास पंक्तियॉं
यह ख्याल करते हुए कि अब वह मेरे पास नहीं
यह सोचते हुए कि मैंने उसे खो दिया।

इस असीम रात को सुनते हुए, जो उसके बिना और असीम है
और कविता गिरती है आत्मा पर जैसे घास पर ओस।

क्या हुआ जो मेरा प्रेम उसे रोक नहीं पाया
यह तारों भरी रात है और वह मेरे साथ नहीं है।

बस। दूर कोई गा रहा है। बहुत दूर।
मेरी आत्मा बेचैन है कि वह मुझसे खो गयी।
मेरी निगाह उसे खोजती है कि उसे मैं पास ला सकूँ
मेरा हृदय उसके लिए विकल है, और वह मेरे साथ नहीं है।

वैसी ही रात उसी तरह, उन्हीं पेड़ों को चाँदनी का बना रही है
हम ही, जैसे थे, अब वैसे नहीं रह गए हैं।

तय है, अब मैं उसे प्यार नहीं करता, मगर मैंने उसे कितना प्यार किया।
मेरी आवाज उस हवा को खोजती है कि उसकी आवाज को छू सके।

किसी और की। वह किसी और की होगी।
जैसे पहले वह मेरे चुंबनों के लिए थी।
उसकी आवाज। उसकी उज्जवल देह। उसकी वे असीम आँखें।

सच है कि अब मैं उसे प्यार नहीं करता
पर मुमकिन है कि अब भी करता होऊँ
प्रेम इतना ही संक्षिप्त होता है और विस्मृति में इतना लंबा वक्त।

ऐसी ही रातों में भरता रहा मैं उसे बाहों में
मेरी आत्मा अशांत है कि उसे मैंने खो दिया।

मुमकिन है कि यह आखिरी वेदना है जो वह मुझे दे रही है
और मुमकिन है, ये आखिरी पंक्तियाँ हैं जो मैं उसके लिए लिख रहा हूँ । 00000

17 टिप्‍पणियां:

मीत ने कहा…

चाहे जितनी बार पढ़ लूँ ... इस का असर वही रहता है. आभार.

कविता वाचक्नवी ने कहा…

मूल व्यंजना का-सा रस देता भावानुवाद।
रचना तो खैर मार्मिक व सहज सम्प्रेषित है ही!

HindiBlogs Net ने कहा…

आपको दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें।
अभी अपना व्यावसायिक हिन्दी ब्लॉग बनायें।

ravindra vyas ने कहा…

कितनी बार पढ़ा है। कितनी बार पढ़ता हूं। जब जब पढ़ता हूं, उदास होता हूं। आज, अभी फिर उदास हूं।
अनुवाद आपके रंग का है।

वर्षा ने कहा…

पाब्लो नेरुदा की कविताएं मुझे हमेशा से अच्छी लगती रही हैं। ये कविता भी बहुत प्यारी है।

Parul ने कहा…

सच है कि अब मैं उसे प्यार नहीं करता
पर मुमकिन है कि अब भी करता होऊँ..ye bharam kitna to bhalaa hai!!!

aabhaar aapkaa

Ek ziddi dhun ने कहा…

Pyar mein kya udaasi aparihary hai. kya bichhudna hi pyaar ko pyaar banata hai...
Neruda ki kai kavitaon mein deh chhalak-chhalak padtee hai par ye kavita to bahut sadgi ke saath bahut sashakt hai

sumanika ने कहा…

कथादेश में अविनाश जी के कालम से पता चला, आप भी ब्‍लाग लिख रहे हैं. आज देखा. बढि़या. अब विमर्श के और आयाम खुलेंगे.

sandhyagupta ने कहा…

Blog jagat me aapka swagat hai.

guptasandhya.blogspot.com

bahadur patel ने कहा…

bahut achchhi kavita padhawane ke liye dhanyawad.

kahana hai kuch aur ने कहा…

jab udaas hoti hoo kavita sath hoti hai
par is kavita ne hi udas kar diya

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

adbhut!
meri kavitaon ka blog dekhen.
www.asuvidha.blogspot.com

ओम निश्‍चल ने कहा…

anuvaad me abhi vah feel nahi mahsoos hoti jo is kavita ki rooh me hai.
abhi tak ke ashok pandey, madhu sharma aadi sabke anuvaadon me yahi kami akharti hai.
mool kavita se hi is kavita ko feel kiya ja sakta hai.--om nishchal, Patna/ Delhi

सृजनगाथा ने कहा…

अपने प्रिय युवा कवि को आज नेट पर देखकर मन को बहुत ही सुकून मिला । बधाई ।

कभी इधर भी भेज दें कुछ प्रसाद

जयप्रकाश मानस
www.srijangatha.com

प्रदीप कांत ने कहा…

Ek achchi kavita padhavane ke liye dhanyavad

naina3dec ने कहा…

aapne thik hi kaha ki yeh kavita achor vayanjana,prem,udasi aur hardikta se bhari hai...

naina3dec ने कहा…

Aapne thik hi kaha ki yeh kavita achor vayanjana,prem,udasi aur hardikta se bhri hai...